Sunday, August 19, 2007

EK ADHOORI KAVITA

मैं हूँ एक कविता जो सुनी जाने की हसरत लिये बैठी है,
एक चीज़ हूँ ठुकरायी हुई जो चुनी जाने की हसरत लिये बैठी है
हूँ एक नगमा जिसे आवाज़ की चादर ने लपेटा नही है,
एक गीत जो अब तक संगीत की शय्या पे लेटा नही है

या शायद एक एहसास जो महसूस होना चाहे है,
तलाश हूँ कुछ ऐसी जिसमे बन्द ये निगाहें है
एक उड़ान जिसे ख्वाबो की उँचायी हासिल है पर पर नही,
तेरे हाथो किया कत्ल जिसका इल्ज़ाम तेरे सर नही

एक विद्रोह मगर दबा हुआ सा,तूफ़ान एक थमा हुया सा,
साँस है मगर ज़िन्दगी कहाँ है, रगो में खून मगर जमा हुआ सा
एक कहानी जिसे अंजाम मिला पर मंज़िल नही मिली,
एक सफ़र जिसे मुकाम मिला पर मन्ज़िल नही मिली

एक धोका,एक छलावा ये जीवन मेरा
पर मेरा पल पल मरना साँचा है,
और नही कुछ हक़ीक़त मेरे होने की
दर्द में लिपटा एक हाँड़-माँस का ढ़ाँचा है

तुम चाहो तो मेरे दर्द की हदे तय कर लो,
दीवारे चार गिरा दो, सरहदे तय कर लो,
मगर इस तकलीफ़ की नही सीमा कोई
मेरी बोझिल सी आँखें अब भी देख रही है
खुद में अद्रिश्य सी गरिमा कोई

वो कहानी,वो सफ़र मंज़िल भी पायेंगे कभी,
मेरे विद्रोह के तूफ़ान सभी समाज की दीवारो से टकरायेंगे कभी,
मेरी उड़ान साक्शी बनेगी मन वाँछित उँचायी की,
सच्चे इल्ज़ाम,सच्चा इन्साफ़पैगाम लायेंगे सच्चायी की
अजनबी सा एहसास वो सबो के अन्तर्मन से परिचय बनायेगा,
नज़रें देखेंगी मकसद तलाश सार्थक हो पायेगा,
मेरे नगमे और गीत ये कल आवाज़ पायेंगे,
ठुकराये गये है जो आज, कल इकरार-ए-अन्दाज़ पायेंगे,

कितना भी विचलित हो मन
समझाना खुद को ज़रूरी है,
इसलिये मेरी कोशिश जारी है
मेरी कविता अभी अधूरी है

16 comments:

aditi said...
This comment has been removed by the author.
aditi said...

वाह्! वाह्!वाह्!

आपकी कविता पढ्कर मै शब्द्हीन हो गयी.

amit said...

apki kavita bahut achhi hai
aap isi tarah likhte rahiye
hamara sath hai aapke sath

amit said...

mast hai yaar,tu shayar ke sath poet bhi ban gaya,...........
and abt apki kavita it make others speechless

PYAASA SAJAL said...

thanks a lot dear......vaise bhi shayar aur poet mein bahut zyaada faasla nahi hota......aur is baat se to main bhali bhaanti vaakif hoon ki tumhara saath mere saath hai........thanks again

PD said...

साधु..साधु..
सच में बहुत ही अच्छी कविता है यह, मुझे अब अफ़सोस हो रहा है की मैंने अभी तक अपने व्यस्त जीवन से आपकी कविता पढने के लिये समय क्यों नहीं निकाल पाया और अभी तक इस खूबसूरत और भावनात्मक कविता से अछूता रहा। खैर 'देर आये पर दूरूस्त आये' की तर्ज पर यही कहना चाहूंगा की बहुत ही सुंदर कविता है, और आपकी अगली कविता का इंतजार कर रहा हूं।

vandana said...

Sajal Ji
waise is kavita ko main aksar orkut par aapke profile mein dekhti thi...
maine iski taareef kayi baar orkut par ki hai..
aaj aapke blog par bhi post kar rahi hoon
waise this was the first poem of yours which i have read .. so it holds a very spcl relevance for me.. :)
its an awesome one..
bahut hi shaandar kavita hai.. :)

PYAASA SAJAL said...

prashant bhaiya aur vandana ji ko mera bahut-2 shukriya.....thoda intezaar kare.....aage bhi aapke umeedo pe khara utarne ka poora prayaas karoonga

ankita said...

pta nhi tha aap itna acha likhte hain...
wakai mein bahut achi kavitayein hain...

kavya said...

yeh kavita ne pehli hi baar me mujhe itna impress kiya tha ki main aapki shakshiyat ko aur kareeb se jaanne ko utawali ho gayi thi....
this poem had made me speechless then too(jab orkut me aapke profile pe pehli baar padhi thi)and it made me speechless again today....
har word behatreen hai iska...khud me dhero arth smaye huye...
har line bas jaise khud b khud flow kar rahi hai..
achchi hindi and really gud creation...well expressed!!

PYAASA SAJAL said...

main bhi aapke comment pe ekdum spechless sa hogaya hoon...ye to aapka badappan hai......
khair umeed hai ki ab aap is shakhsiyat ko achhe se jaan gayi hongi....vaise i will really like to thank this poem if it played any part in helping me earn a nice friend like u...

kavya said...

hamesha ki tarah again the pleasure is all mine!!thnx to is poem ka mujhe karna hi hoga jo tumse milaya and tumhe kareeb se jaanne ka mauka diya...mere life ka ek behad sukhad experience raha hai tumse baaten karna and tumhara mujhse apni baaton ko apnepan se bhar ke share karna!!isliye yeh poem hamesha se mere liye bahut special rahegi and unforgettable bhi...!!
waise hi jaise ki tum khud ho...
yeh poem me kahin na kahin mujhe tumhari reflection nazar aati hai,as if u r introducing urself thru this and jahan kahin bhi tumhara aks ho wo mujhe bahut pyara lagta hai..:)yeh poem us nazariye se bhi khaas hai..!!

khushi said...

मैं हूँ एक कविता जो सुनी जाने की हसरत लिये बैठी है,
एक चीज़ हूँ ठुकरायी हुई जो चुनी जाने की हसरत लिये बैठी है
हूँ एक नगमा जिसे आवाज़ की चादर ने लपेटा नही है,
एक गीत जो अब तक संगीत की शय्या पे लेटा नही है
this poem stood out to me it discusses deep feelings
that as Sajal stated, speak out to everyone whenever they feel
alone.

Nidhi said...

really well written, Dear pyasa sajal, keep it up.....the best part in the poem is the clarity of thought.... expressed unwaveringly in a beautiful way...good work

Pyaasa Sajal said...

sorry for the late replies...but thanks for all these encouraging comments :)

Harash Mahajan said...

Ek sunder kalpna..daad hazirhai janaab