Sunday, August 19, 2007

WO AUR RASTE KA PATTHAR

रस्ते के पत्थर
पर पड़ी जो नज़र
उधर से गुज़रते हुए,
खुद को पाया मैने एक
तुलनातमक उड़ान भरते हुए,
विचारो की गहरायी में
अनायास उतरते हुए,
ये निर्जीव पत्थर
कहाँ जानता है,
किसी से इसकी कितनी
अटूट समानता है,
ऐसा जब मेरी
चेतना विचारी,
तो सामने आई
बातें कई सारी,
वो भी इसकी तरह
कठोर,बेजान
जज़्बातो से अंजान,
मिट्टी से गहरा नाता है,
पर इनका मस्तिष्क
ये कहाँ समझ पाता है,
इनमे एक और
बात समान है,
की दोनो के ठोकरो से
अपना दिल घायल
मन परेशान है,
और ये इस बात
से परेशान है,
की ज़माना इन्हे
ठोकर लगा जाता है,
थोड़ा सा हिला इनमे
चलने की हसरत जगा जाता है,
एक और पहलू
जहाँ दोनो में कोई भेद नही,
बाहरी एहसास देखो तो
शिकायत दोनो से है
मगर कोई भीतरी मतभेद नही,

पर सबसे अहम
बात तो ये है
इन्हें अपने पथ में पाके
एक पल के लिए
तो हर कोई रुकता है,

और गर ठोकर
भी लग जाए इनसे
ये दिल उन्हीं की ओर झुकता है

13 comments:

Prashant Priyadarshi said...

पत्थर का हमारे जीवन से तुलनात्मक परिचय बहुत ही अच्छा और जीवन और सत्य के करीब था। मैं बस इतना ही कहूंगा की गुरू तुमने तो शुरूवात में ही गरदा मचा दिया... :)

PYAASA SAJAL said...

बहुत शुक्रिया आपका...वैसे एक बात कहना ज़रूरी है की कविता में पत्थर की तुलना सामन्य जीवन से नही बल्कि एक खास् पहलू से की गयी है.
मैं असल में पत्थर कि तुलना ऐसे लोगो से कर रहा हूँ जो बेवफ़ा होते हुये भी हमारे अजीज़ होते है...
शुक्रिया एक बार फ़िर

aditi said...

bhaiya ki tarif mein kuchh shabd:
mindblowin bro........both d poems were an amalgam of talent n outstandin imagination.....

meko to kuchh hi din pehle pata chala ki mere bhaiya itna "hilane" vala poems likhte hai....frankly speakin aadha se zyada mere sir k upar se chala jata hai.....yet i try 2 get 2 d depth of watever he writes & dis piece of his work is undoubtedly beyond words............well done bro......gud luck........

shrdh said...

Pathar ka humare jivan se tulna aur us baahv ko apne satah lekar chalte jana bhaut hi achha laga

PYAASA SAJAL said...

अपनी बहना को मेरा अत्यन्त शुक्रिया,मेको भी हाल में ही पता चला है की हम हिलाने वाले कवितायें लिखते है...:)

Shradha di को भी शुक्रिया,आप ही का आशीर्वाद है दीदी..वैसे मैं फ़िर वो बात दोहराना चाहूँगा जो मैने प्रशान्त जी को कही थी...पत्थर की तुलना एक खास पहलू से ही की गयी है

vandana said...

Sajal Ji
aapki poem bahut achchi hai..
aur aapka comparison shows ur innovativeness.. if u havent mentioned it that u hav done this kind of comparison i wud hav never even followed d real essence of it... after reading ur response on Prashant Sir's comment i have gone thru d poem again and found it more worth noticing dis time...
g8 wrk ..
keep it up..

amit said...

mast hai,main kuchh kavi ke style me to nahi keh sakta buttttt........
tum samajh hi rahe hoge

PYAASA SAJAL said...

thanks a lot vandana ji......amit ko bhi mera shukriya.....vaise tum kavi andaaz mein bhi keh sakte ho aur is baat ka mujhe sabse behtar anndaaza hai.......thnanks again.....

kavya said...

bahuttttttttttttt hi badhiyaaaaa....
kavita ko baar baar padha maine...
sochne pe majboor,aashcharya se bharpoor ki itni achchi rachna hai...!!
bahut achchi soch...bahut achche se vyakta kiya gaya hai...
blog me padhi saari kavitaon me most favourite meri....:)
really touching and sensitive one..
carry on the gud work always!!

PYAASA SAJAL said...

main khud ko gar is poem ka janak na maanke ek simple reader ke nazariye se dekhoon to mere vichaar aapse bahut zyaada mel khaate hai....
"ek adhoori kavita" holds a special relevance for me,par literary aspect se dekhoon to mera bhi favourite yehi hogaa.......
thanks again for ur motivational words

prity said...

i didn't know ki humaare doston mein ek ghalib bhi hai.poems to likhte ho ye pata tha par itna accha likhte ho ye aaj jaane. sajal u r too gud. it like proffesional yaar keep it up. mast likhte ho.

prity said...

i didn't know ki humaare doston mein ek ghalib bhi hai.poems to likhte ho ye pata tha par itna accha likhte ho ye aaj jaane. sajal u r too gud. it like proffesional yaar keep it up. mast likhte ho.

sajal said...

thanks a lot dear..sorry for being so late in replying...u too keep up the good work in Hindi poetry :)