Monday, December 22, 2008

बेखुदी मे ये कलम आप मेरी ज़ुबान होती है...

ज़िंदगी खुद एक रोज़ अपनी मौत का सामान होती है,
तभी ज़िंदगी इतनी मुश्किल,मौत इतनी आसान होती है

अपनी बुराईयों को खुद पे कभी हावी ना होने देना,
अलग इंसानो की भी परछाईयाँ एक समान होती है

सिर्फ़ तेरे आ जाने से बज़्म में रौनक नही है छायी,
देख तेरे चले जाने से कहाँ ये महफ़िल वीरान होती है

यकीनन झूठी करते है या झूठ कहते है वो लोग,
जो कहते है जहाँ में रस्मे मोहब्बत आसान होती है

या तो जला देती है या फ़िर ठुकरा ही देती है,
शमा कहाँ कभी किसी परवाने पे मेहरबान होती है

इसकी फ़ितरत पे ना हँसी आये है ना रोया ही है जाये,
वो ज़िंदगी जो ज़िंदादिली की हद से परेशान होती है

वो मुझसे पूछते है जब भी राज़ मेरी शायरी का,
क्या बताऊँ,बेखुदी मे ये कलम आप मेरी ज़ुबान होती है

an amateurish attempt at ghazal writing...yet,this has been a more satisfying attempt for me...feels like am getting back into my zone :)

20 comments:

विनय said...

वाह, बहुत ख़ूब

----------
चाँद, बादल और शाम

Pyaasa Sajal said...

achha laga aap yahaan padhaare :)

seema gupta said...

वो मुझसे पूछते है जब भी राज़ मेरी शायरी का,
क्या बताऊँ,बेखुदी मे ये कलम आप मेरी ज़ुबान होती है

" first time visited your blog, wonderful thoughts and expressions, liked these two lines very much, keep it up"

Regards

रंजना [रंजू भाटिया] said...

यकीनन झूठी करते है या झूठ कहते है वो लोग,
जो कहते है जहाँ में रस्मे मोहब्बत आसान होती है

बहुत खूब ....

kavya said...

I liked the "last sher" sabse muchh... :P good attempt!

Pyaasa Sajal said...

@ Seema ji..pehle to shukriya aap yahaan aaye...and I hope aap mujhe iase hi encourage karte rahengi :)

Pyaasa Sajal said...

@ Ranjana ji...main is line ki daad ki hi firaak mein tha...mera personal favourite yehi sher hai...shukriya bahut :)

Pyaasa Sajal said...

@ Kavya...aajkal attempt karne k a mood bana hua hai bas :)

"अर्श" said...

सिर्फ़ तेरे आ जाने से बज़्म में रौनक नही है छायी,
देख तेरे चले जाने से कहाँ ये महफ़िल वीरान होती है

bahot hi umda sher ,behad khubsurat aur behatarin jajbat se bhare... pahali dafa aapke blog pe aaya ,behatarin ghazal se aapne parichaya diya bahot khub jari rakhen.. dhero badhai aapko...

divya said...

achchi ghazal hai sajal....'ek adhuri kavita' se lekar 'sampoorna ghazal' ka safar kitna suhana hai..likhte raho!!GOD bless u!!

Pyaasa Sajal said...

@ Arsh ji..bas aap jaise log yahaan aa rahe hai,bande ke liye isse badi baat kya hogi

@ Divya Di...sab aapke ashirvaad ka hi asar hai

Hari said...

Mazaa aa gayaa Sajal.....thoda dard, thodi kashish, kaafi philosophy.....lage raho :)

Pyaasa Sajal said...

aap prerna roopi dhakka dete raho...hum lage rahenge

khushi said...

वो मुझसे पूछते है जब भी राज़ मेरी शायरी का,
क्या बताऊँ,बेखुदी मे ये कलम आप मेरी ज़ुबान होती है
Sach hai... sayar log apni sayari se, poet log apne poem se sab keh jate hai aur hum… unke kahe ko soch kar apni hi gehraio me kho jate hai…

Pyaasa Sajal said...

waah khushi.. :P

vivek's....... said...

u rock ......saari ki saari zabardast hai...keep writing

Pyaasa Sajal said...

thanks mate...ur feedback is valuable

रश्मि प्रभा said...

अपनी बुराईयों को खुद पे कभी हावी ना होने देना,
अलग इंसानो की भी परछाईयाँ एक समान होती है
.......bahut khoob

Nidhi said...

You can’t find a special rhyming pattern till the sixth stanza. Then suddenly there is a change in the rhyme scheme, it’s getting very clear and precise. The sound is becoming melodious and supple like waves.
:)
keep it up dude :)

Pyaasa Sajal said...

its a litlle late to say thanks...still... :)